भारत

पहली यात्रा पर रवाना हुआ ‘MV Ganga Vilas’, प्रधानमंत्री ने दिखाई हरी झंडी

वाराणसी (संजय कुमार). पांच सितारा होटल जैसी सुविधाओं से युक्त, गंगा की लहरों पर तैरता हुआ ‘MV Ganga Vilas’ शुक्रवार को पहली यात्रा पर रवाना हो गया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रिवर क्रूज गंगा विलास को वर्चुअली हरी झंडी दिखाई। इस दौरान स्थानीय स्तर पर आयोजित समारोह में सीएम योगी आदित्यनाथ भी शामिल हुए।

शुक्रवार को आलीशान रिवर क्रूज के साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र को एक और सौगात मिली है। यह सौगात है टेंट सिटी की, जिसे गंगा के तट पर बसाया गया है। आज का दिन वाराणसी के लिए काफी ऐतिहासिक है। वाराणसी से रवाना होने वाला रिवर क्रूज गंगा विलास ‘MV Ganga Vilas’ 52 दिन की यात्रा में 3200 किलोमीटर का सफर तय करेगा। वाराणसी से रवाना होने के बाद यह गाजीपुर, बक्सर, पटना, मुंगेर, भागलपुर (सुल्तानपुर) होते हुए पश्चिम बंगाल पहुंचेगा। यहां के बाद यह पड़ोसी देश बांग्लादेश की सीमा से होते हुए देश के पूर्वोत्तर में स्थित डिब्रूगढ़ तक का सफर तय करेगा। इस दौरान 50 अलग-अलग हैरिटेज स्थलों पर रुकेगा। इसमें 15 दिन का वक्त बांग्लादेश के ऐतिहासिक स्थलों के भ्रमण का शामिल है।

यह भी पढ़ेंः अंतर्देशीय जलमार्गों के विकास को मजबूती देगा River Cruise ‘गंगा विलास’

यह भी पढ़ेंः रबी की फसलों को कीट, रोग एवं खरपतवार से ऐसे बचाएं

यह भी पढ़ेंः मकर संक्रांति पर उमड़ने वाली भीड़ को कंट्रोल करने का प्लान तैयार

18 कमरों वाले इस पांच सितारा रिवर क्रूज में कुल 36 यात्रियों के सफर का इंतजाम किया गया है। पहली ट्रिप पर जाने वाले सभी यात्री विदेशी हैं और स्विटरलैंड से हैं। यात्रियों की सुविधा के लिए तीन डेक वाले इस रिवर क्रूज में ओपन स्पेस, बालकनी, 40 सीट वाला रेस्टोरेंट, स्टडी रूम भी बनाया गया है। इसके अलावा लग्जरी सुविधाओं की बात करें तो इसमें एसी एंटरटेनमेंट रूम, स्पा की सुविधा वाला सलून, गीत-संगीत, लाइब्रेरी, जिम, लेक्चर हाउस की भी सुविधा उपलब्ध है।

52 दिन के सफर के दौरान यह क्रूज भारतऔर बांग्लादेश में 27 नदियों और सहायक जलधाराओं से होकर गुजरेगा। जो विश्व धरोहर स्थलों, राष्ट्रीय उद्यानों, नदी घाटों सहित कुल 50 रमणीय स्थलों को कवर करेगा। 62.5 मीटर लंबा और 12.8 मीटर चौड़ा यह क्रूज एक बार में 40 हजार लीटर फ्यूल कैरी करने की क्षमता रखता है। इसके अलावा इसमें 60 हजार लीटर पानी को स्टोर किया जा सकता है। इसके रूट में कुल 27 नदियां, एक नेशनल वाटरवे, इंडो-बांग्ला प्रोटोकाल रूट और नेशनल वाटर वे-2 का भी यह क्रूज इस्तेमाल करेगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button