पूर्वांचल

मुख्यमंत्री सामूहिक विवाहः भदोही में 223 जोडों ने लिए सात फेरे

फिजूलखर्ची पर रोक लगाते हैं सामूहिक विवाह जैसे आयोजनः दीनानाथ भाष्कर

सामूहिक विवाह समाज की समरसता एवं समरूपता का  प्रतिफलः जिलाधिकारी

भदोही (कृष्ण कुमार द्विवेदी). मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के तहत जनपद में शुक्रवार को 223 जोड़ों का विवाह करवाया गया। विभिन्न नगर निकायों में हुए सामूहिक आयोजन में स्थानीय जनप्रतिनिधि भी शामिल हुए और नवदंपति को सुखद जीवन का आशीष दिया।

शासन के अति महत्वांकाक्षी योजना के अन्तर्गत मा0 मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश सरकार के द्वारा दिये गये निर्देशों के क्रम में जनपद के समस्त विकास खण्डों में मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजनान्तर्गत शादी सम्पन्न कराई गयी। सामूहिक विवाह कार्यक्रम में विभिन्न विकासखण्डो में मा० विधायक दीनानाथ भास्कर, मा0 पूर्व विधायक भदोही रवीन्द्र नाथ त्रिपाठी, मा० जिलाध्यक्ष, मा० ब्लाक प्रमुख, मा० जिला पंचायत सदस्यगण,  नामित जिला स्तरीय अधिकारी, मुख्य विकास अधिकारी उपस्थित रहें ।

यह भी पढ़ेंः डीएम ने किया निरीक्षण तो मेडिको और शिवा अल्ट्रासाउंड सेंटर पर लग गया ताला

यह भी पढ़ेंः  रेंजर्स प्रशिक्षणः प्रीति और रानी यादव को बेस्ट रेंजर्स का पुरस्कार

यह भी पढ़ेंः  जालसाजों के चंगुल में फंसे प्रतियोगी छात्र ने रची खुद के अपहरण की साजिश

सामूहिक विवाह के इस आयोजन में विकास खंड ज्ञानपुर में 44, भदोही में 25, डीघ में 40, अभोली में 27, औराई में 34, सुरियावां में 44 के अलावा सभी नगर पालिका परिषद/नगर पंचायत में कुल नौ जोड़ों का विवाह करवाया गया। इसमें 158 अनुसूचित जाति, अन्य पिछड़ा वर्ग 52, सामान्य 01 एवं अल्पसंख्यक वर्ग के 12 जोड़े शामिल रहे। औराई विधायक दीनानाथ भाष्कर, जिलाध्यक्ष, ब्लाक प्रमुख, जिलाधिकारी गौरांग राठी, सीडीओ यशवंत कुमार सिंह, सभी बीडीओ और ईओ नव युगल को उपहार के साथ विदा भी किया।

विधायक दीनानाथ भाष्कर ने कहा, सामूहिक विवाह योजना शादी पर होने वाले अपव्यय पर रोक लगती है, जिससे गरीब आदमी भी अपनी बहन-बेटी की शादी खुशहाली के साथ संपन्न कर सकते हैं। जिलाधिकारी गौरांग राठी ने कहा कि शुभ विवाह/पाणिग्रहण संस्कार जीवन का एक पवित्र गठबंधन है, जिसमें पति-पत्नी एक दूसरे के साथ समर्पित जीवन जीते हुए समाज एवं देश में अपना योगदान देते हैं।

जिला समाज कल्याण अधिकारी ने बताया कि मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के तहत शासन द्वारा एक जोड़े शादी पर 51000 रुपये का व्यय करने की व्यवस्था की गई है, जिसमें कन्या के खाते में 35000 रुपये दिए जाएंगे, जबकि  उपहार के रूप में दस हजार रुपये का सामान और पांच हजार रुपये का खर्च विवाह संपन्न करवाने पर किया जाता है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button